दुनिया की वो 8 जगहें जहाँ कभी हलचल थी और आज सन्नाटा पसरा है।

पुराने प्राचीन स्थलों का कई दौरा करने के बाद, आपको यह भी नहीं लगता कि यहाँ कभी कोई मानव बसा या बसाया गया था होगा। आपने किलों का उदाहरण से ये आसानी से समझ सकते है, क्यूँकि ये राजा महाराजों की कहानियों और साक्ष्यों से जुड़े होते हैं।कई क़िले ऐसे भी है जिसे देख कर हम सोच भी नहीं सकते कि हमारे पूर्वज ऐसी जगह रहते थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन इन  किलों पर बिताया होगा। 

कभी लोगों से खचाखच भरी ये जगहें अब बहुत वीरान हो चुकी हैं। कुछ जगह तो डरावनी भी बन गई हैं। लेकिन, कई साल पहले ऐसा हुआ था। आज भी, दुनिया की पीठ पर इस तरह की जगहें मौजूद हैं। कल तक, बस कुछ साल पहले, यह ऐसे लोगों से खचाखच भरा था, लेकिन आज इन गलियों में सन्नाटा के सिवाय कुछ भी नहीं हैं।इस आर्टिकल में इन स्थानों की सूची हैं।

1 ईस्ट टाउन थिएटर (Abandoned East Town Theater)

ईस्ट टाउन थिएटर प्रथम शानदार थिएटर था जिसे द्वितीय विश्व युद्ध के बाद हांगकांग द्वीप के वानचाई जिले में बनाया गया था। थिएटर का मालिक हांगकांग का होटुंग परिवार था। श्रीहोतुंग पिछली शताब्दी में हांगकांग के एक प्रसिद्ध व्यापारी और परोपकारी व्यक्ति थे । थिएटर 9 फरवरी 1964 में खोला गया था और यह प्रदर्शित होने वाली पहली फिल्म “कोपाकबाना पैलेस” (“Copacabana Palace”)थी।1974 के फ़रवरी महीने में “पेपर मून” फ़िल्म के प्रदर्शन के बाद, थिएटर ने अपने दरवाजे हमेशा के लिए बंद कर दिए।थिएटर में कई शानदार उपकरणों का प्रयोग किया गया था।

Abandoned East Town Theater
Abandoned East Town Theater

इसलिए ये 1960 में हांगकांग का सर्वश्रेष्ठ सिनेमाघरों में से एक था। हाई-गेन मोती से तैयार सिनेमा स्क्रीन की चौड़ाई 50 फीट थी।चूंकि थियेटर एक क़ब्रिस्तान के ऊपर बनाई गई थी। इसलिए भूत की कहानियों इस सिनेमाघर से हमेशा जुड़ी रही और समय-समय पर 1960 और 1970 की शुरुआत में सुना गया था। आज, हालांकि, ये आलीशान थिएटर पूरी तरह से बंद हैं। लेकिन इसके गिरने के कारण, आज कोई भी इस शानदार इमारत का रुख नहीं करता हैं। इसकी जर्जर हालत के कारण लोगों को थिएटर में प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया हैं।

इन्हें भी पढ़े

प्रबोधनकाल ने हमारी ज़िंदगी कैसे बदल दी ?

दुनिया का इतिहास को जानने से पहले हमे पुनर्जागरण क्यों जाना चाहिए ?

वो शख्सियत जिन्हें गैर भारतीय होते हुए भी भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

2 सेन्ट्रालिया,पेनिसिल्वानिया (Abandoned Centralia, Pennsylvania)

सेन्ट्रालिया एक ऐसा शहर जहाँ भूमीगत खदानों की आग ने बाशिंदो से उनकी ही ज़मीन हड़प ली।ये शहर 1941 में बसा था, कोयला खनन इसकी जीवन रेखा थी। लिथुआनिया, पोलैन्ड, इंग्लैड और जर्मनी से लोग यहाँ आकर बसे थे। करीब दो हजार बाशिंदो का यह शहर तब दरवाजे बिना ताले लगाये छोड़ने का आदी था।शहर की जिंदगी यूँ ही अलमस्त चल रही थी कि 1960 में आर्थिक मँदी का दौर आ गया।

सारी कम्पनियाँ एक एक कर बँद होती चली गईं और अवैध कोयले के उत्खनन का काम शुरू हो गया। लोग अपने घर के आसपास या फिर किसी जगह जंगल में सुरंग बनाकर रस्सी के सहारे कोयला के भँडार तक पहुँच कर कोयला खोदते और कालाबाजार में बेच देते। यह न सिर्फ खतरनाक था बल्कि जिंदगी की गाड़ी चलाने के लिये नाकाफी भी था।1962 में एक अनहोनी घटना घटी।

Abandoned Centralia, Pennsylvania
Abandoned Centralia, Pennsylvania

किसी अवैध सुँरग में आग लग गयी। भूमिगत आग जलती रही, और फैलती रही।इसके बाद इस आग को रोकने के इरादे से सरकार ने एक महत्वाकाँक्षी योजना बनायी। इसके अंतर्गत सारे निवासियों के घर सरकार खरीद लेती और कस्बे के चारों ओर एक 500 फुट गहरी खाई खोद दी जाती। पर 660 मिलयन डालर का खर्च और आग रूकने की कोई गाँरटी न होने की बाबत सरकार ने अपने बढ़े कदम खींच लिये। अब सरकार सेंट्रालिया की स्थिति निरंतर खतरनाक होते जाने के कारण सिर्फ वहाँ के निवासियों को एक एक कर वहाँ से हटाने के अतिरिक्त कुछ नहीं कर रही।और ये बसा बसाया क़स्बा आग में झुलस गया।

3 यूक्रेन के चेर्नोबिल परमाणु ऊर्जा स्टेशन 

Chernobyl Energy Stationof Ukraine
यूक्रेन

चेर्नोबिल परमाणु दुर्घटना मानव इतिहास की सबसे बड़ी परमाणु दुर्घटना है जो 25-26 अप्रैल 1986 की रात यूक्रेन स्थित चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र के रिएक्टर क्रमांक 4 में हुई। यह परमाणु संयंत्र उत्तरी सोवियत यूक्रेन में स्थित प्रिप्यत शहर के पास बनाया गया था। वोस्फोट में आग लग गयी,जो लगातार 9 दिनों तक जलती रही और वातावरण में रेडियोधर्मी पदार्थो को उगलती रही। माना जाता है की इस दौरान इतने रेडियोधर्मी पदार्थ वातावरण में मुक्त हुए जितने की किसी परमाणु बम के विस्फोट के दौरान होते है।

ये रेडियोधर्मी पदार्थ दक्षिणी सोवियत यूनियन और यूरोपियन देशों के वातावरण में मिल गए जिससे जान और माल का काफी नुक्सान हुआ जो आज भी जारी है।इससे इतनी ज्यादा मात्रा में रेडियो एक्टिव धर्मी पदार्थ निकले जो हिरोशिमा एवं नागासाकी परमाणु हमले से 10 गुना ज्यादा था।यह क्षेत्र ऐसे 200 लोगों को छोड़कर काफी हद तक खाली है, जो वह क्षेत्र छोड़कर नहीं गये. आपदा के 34 साल बाद भी इस क्षेत्र में विकिरण का स्तर सामान्य नहीं हुआ है।

4 यूएफओ विलेज(Abandoned Town)

Abandoned Town
Abandoned Town

ताइवान में कई अजीबोगरीब इमारतें हैं। लेकिन, सनजी(Sanzhi) की यह इमारत बहुत ही अजीब है। यह भवन 1978 में अमेरिकी सैन्य अधिकारियों के लिए ग्रह से आने वाले उड़न तश्तरी के आकार में बनाया गया था। इस इमारत को पूरा करने के लिए बहुत पैसा खर्च किया गया था। इसका असर देश की अर्थव्यवस्था पर भी पड़ा। इसलिए निर्माण रोक दिया गया। फिर भी इस परियोजना के तहत बनाए गए कुछ घर कई सालों तक एक जैसे रहे। 

इन इमारतों के लिए कई अफ़वाह फैली जिनमे से एक ये भी थी कि उन  घरों  में राक्षसों की गंध आती है। यहाँ कई विचित्र दुर्घटनाएँ भी घटी । बाद में इन मकानों को तोड़ दिया गया। कहा जाता है कि निर्माण श्रमिकों को 20,000 लोगों की हड्डियाँ मिली हैं। 2010 में, इन सभी घरों को ध्वस्त कर दिया गया था। आज यहां एक नया वाटर पार्क और रिसॉर्ट स्थापित किया गया है। 

इसे भी देखे –

Golden Age of Indian cinema कहानी ” हम दोनो की “

गांधी, गांधी क्यों हैं?

पाँच साल पहले क्यों लिया था इस परिवार ने ऐसा फ़ैसला

5 हाशिमा द्वीप (Abandoned Island)

Abandoned Island
Abandoned Island

यह द्वीप जापान के नागासाकी प्रान्त में 505 निर्जन द्वीपों में से एक है। द्वीप की सबसे उल्लेखनीय विशेषताएं इसकी परित्यक्त कंक्रीट की इमारतें हैं। जो प्रकृति को छोड़कर और आसपास की समुद्री दीवार के नीचे मौजूद हैं। जबकि द्वीप जापान के तेजी से औद्योगिकीकरण का प्रतीक है, लेकिन यह द्वितीय विश्व युद्ध से पहले और दौरान मजबूर श्रम की एक साइट के रूप में अपने इतिहास की याद भी दिलाता है।

16 एकड़ का यह द्वीप 1887 में स्थापित अपनी अंडरसीट कोयला खदानों के लिए जाना जाता था।जो जापान के औद्योगिकीकरण के दौरान संचालित होता था। यह द्वीप 1959 में 5,260 की चरम आबादी पर पहुंच गया। 1974 में कोयले के भंडार में कमी के साथ, खदान को बंद कर दिया गया था और सभी निवासियों को जल्द ही इस स्थान को छोड़ दिया गया। 

6 हालूदोवो पैलेस होटेल (Abandoned Haludovo Palace Hotel)

Abandoned Haludovo Palace Hote
Abandoned Haludovo Palace Hote

क्रोएशिया का यह सुंदर होटल एक बार इतना शानदार था कि इसका स्विमिंग पूल कथित तौर पर शैंपेन से भरा हुआ था। यहां आज जैसा दिखता है।एक समय पर, देश के बड़े क्षेत्रों के लोग यहां आते थे और आतिथ्य प्राप्त करते थे। इस भवन का निर्माण पेंटहाउस मैगज़ीन के संस्थापक बॉब गुच्चिनो ने 45 मिलियन की लागत से इसे बनवाया था।लेकिन 1990 के दशक में यूगोस्लाव युद्धों के दौरान, शरणार्थियों के लिए एक आश्रय के रूप में परिसर का उपयोग किया था। 2000 में साइप्रस में रूसी-अर्मेनियाई अपतटीय कंपनी द्वारा इसे खरीदा लिया गया था। 2002 के बाद से, परिसर का अधिकांश हिस्सा खाली हो गया है। आज, क्रोएशिया में हालुदोवो का खंडहर शायद सबसे प्रसिद्ध “खोई जगह” है।

7 पिचर, ओक्लाहोमा (Abandoned Picher, Oklahoma)

Abandoned Picher, Oklahoma
Abandoned Picher, Oklahoma

ओक्लाहोमा में घड़ा संयुक्त राज्य अमेरिका में सबसे जहरीले शहरों में से एक के रूप में जाना जाता है। सीसा और जस्ता की बड़ी खानों की खोज यहां की गई थी। 1900 में, यहां रहने वाले 63% बच्चों कई बीमारियों से ग्रसित पाए गए। 2005 के बाद से, सरकार और पुलिस ने निवासियों को शहर छोड़ने के लिए मजबूर किया है। आज शहर वीरान है।

8 न्यू ऑरलियन्स (Abandoned New Orleans)

Abandoned New Orleans
Abandoned New Orleans

 कैटरीना तूफ़ान के बाद न्यू ऑरलियन्स बहुत बदल दिया। संयुक्त राज्य अमेरिका के खाड़ी तट पर जब इस तूफ़ान ने तबाही मचाई तब यह अनुमान लगाया गया था कि न्यू ऑरलियन्स का 80% पानी के नीचे था । तूफान कैटरीना और उसके बाद की तबाही को अभी भी सिक्स फ्लैग्स न्यू ऑरलियन्स में देखा जा सकता है। इलाके में पानी भर गया, यहां का पार्क बाढ़ के पानी में पूरी तरह से डूब गया था। पार्क के मालिक ने एक बार फिर से पार्क को खड़ा करने की अनुमति मांगी थी, लेकिन सरकार इससे इनकार कर दिया गया था।

हमसे जुड़ने के लिए

close
दुनिया की वो 8 जगहें जहाँ कभी हलचल थी और आज सन्नाटा पसरा है।

दिलचस्प और सच्ची घटनाओं पर आधारित कहिनयों और ख़बरों के लिए सब्स्क्राइब करें...

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

Leave a Reply